कोविड-19 से बचने के लिए ब्लीच,लॉइजाल औऱ डेटॉल पी रहे है

लहसुन ,शराब, गरम पानी और  भाप नहीं है कोरोना का इलाज 


अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बेतुके बयानों की वजह से अमेरिकी लोग अजीब-अजीब हरकत कर रहे है…और कोविड-19 से बचने के लिए ब्लीच,लॉइजाल औऱ डेटॉल पी रहे है…और इससे लोग ठीक तो कम हो रहे है लेकिन अस्पताल पहुंच जा रहे है…




भारत में कोरोना का संक्रमण बढ़ रहा है. देश में कोरोना वायरस से संक्रमित मामलों की संख्या 26,153 के पार हो गई है. स्वास्थ्य मंत्रालय ने गुरूवार सुबह संक्रमण के आंकड़ों की जानकारी दी.
watch video 




कोरोना वायरस को लेकर तरह-तरह की अफवाह सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है. उनमें से कुछ अफवाहों की हमने पड़ताल की. हमने पाया ये फेक न्यूज हैं. आइए जानते हैं सोशल मीडिया में कोरोना को लेकर कौन-कौन सी फेक न्यूज चल रही हैं.

शराब पीने वालों को कोरोना वायरस नहीं होगा
कहा जा रहा है कि शराब पीने वाले लोगों पर कोरोना वायरस का असर नहीं होता है. इस तरह की खबरें सोशल मीडिया पर खूब चल रही हैं. ईटी की गूगल सर्टिफाइड टीम ने इन तथ्यों की पड़ताल की. हमने पाया कि इस तरह का कोई सर्कुलर या सलाह भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय या विश्व स्वास्थ्य संगठन की तरफ से नहीं दी गई है.


Lockdown के दौरान दो Mosques में इकट्ठा हुए लोग



हमने फैक्ट चेक में पाया कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने कोरोना से बचाव को लेकर जारी की गई गाइडलाइंस में अल्कोहल का जिक्र तो किया है, लेकिन कहीं ये नहीं लिखा कि शराब पीने से कोरोना वायरस से बचा जा सकता है. डब्ल्यूएचओ के मुताबिक, अपने हाथों को साबुन और पानी से बार-बार धोएं और गंदा होने पर अल्कोहल बेस्ड हैंडवॉश का इस्तेमाल करें. इससे हाथों में आए वायरस खत्म हो जाते हैं.

कोरोना वायरस की दवा बाजार में आ गई है
सोशल मीडिया में चल रहे मैसेज में कहा गया है कि कोरोना वायरस होम्योपैथिक दवा आर्सेनिक एलबम 30 से नियंत्रित किया जा सकता है. मैसेज में कहा गया है कि होम्योपैथिक इलाज आपको इस वायरस से काफी हद तक बचा सकता है.

इस बारे में हमने पड़ताल की तो पाया कि इस बात का कोई सबूत नहीं है कि यह दवा खाने से कोरोना वायरस का इलाज हो सकता है. इसके लिए ईटी ने गूगल की फैक्ट चेक टीम में शामिल लोगों से इसकी सच्चाई जानने की कोशिश की. वहां भी इस बात की पुष्टि हुई कि यह फेक न्यूज है.

लहसुन से इलाज का दावा कितना सही?
सोशल मीडिया में शेयर किये जा रहे संदेशों में लहसुन से कोरोना वायरस के इलाज का दावा किया जा रहा है. जबकि विश्व स्वास्थय संगठन या दुनिया की कोई भी एजेंसी ने अब तक इस बात का दावा नहीं किया है कि कोरोना वायरस को लेकर कोई टीका इजाद हुआ है. इसकी कोई दवा भी बाजार में नहीं आई है. इस बारे में डब्ल्यूएचओ के ट्वीट में कहा गया है कि यह फेक न्यूज है. लहसुन से वायरस के इलाज के कोई भी पुख्ता प्रमाण नहीं मिले हैं.

अंडा, चिकन और मछली से होता है कोरोना
अंडा, चिकन और मछली से कोरोना का कोई सीधा संबध नहीं है. इस बारे में हमने भी पड़ताल की तो किसी भी सरकारी या निजी संस्था ने यह दावा नहीं किया है अंडा, मछली या चिकेन खाने से कोरोना वायरस होता है.


इस बारे में केंद्रीय पशुपालन, डेयरी व मत्स्य पालन मंत्री गिरिराज सिंह ने इस तथ्य का खंडन करते हुए 5 मार्च को ट्वीट भी किया है. इसमें कहा गया है कि मछली, अंडे और चिकन से कोरोना वायरस का कोई लेना-देना नहीं है. मछली अंडा और चिकन छोड़ने से आपके शरीर में प्रोटीन की कमी हो सकती है..अतः स्वच्छता का ध्यान रखें और सभी भोजन अच्छी तरह पका कर खाएँ.

कितना कठिन होगा सफर भारत के लिए अब क्या बढ़ेगा लॉकडाउन 

कोरोना वायरस के खिलाफ भारत की लड़ाई के लिहाज से एक बहुत ही अच्छी खबर है. अब देश में इस घातक बीमारी से ठीक होने वाले लोगों की संख्या रफ्तार पकड़ रही है.

मंत्रालय के मुताबिक, देश में संक्रमित मामलों की संख्या 26,153 को पार कर गई है. अब तक इस महामारी से 823 लोगों की मौत हो चुकी है. 5,906 संक्रमित लोग इलाज के बाद ठीक हो चुके हैं.

कोविड-19 से बचने के लिए ब्लीच,लॉइजाल औऱ डेटॉल पी रहे है कोविड-19 से बचने के लिए ब्लीच,लॉइजाल औऱ डेटॉल पी रहे है Reviewed by alok kumar on Saturday, April 25, 2020 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.