पढ़े कोरोना से जुड़ी सारी वाइरल खबरे

भारत में कोरोना मरीज Confirmed
85,784  वाइरल खबरे

India
Confirmed
85,784
Recovered
30,258
Deaths
2,753

Worldwide 
Confirmed
4.58M

Recovered
1.71M
Deaths
308K


ट्रंप ने कहा- भारत के साथ निभाएंगे दोस्ती भारत ने भी अमेरिका को दी कोरोना की दवा

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि वे भारत को अनुदान के तौर पर वेंटिलेटर्स देंगे. ट्रंप ने एक ट्वीट में कहा, मुझे गर्व है कि अमेरिका भारत के मेरे दोस्तों को वेंटिलेटर्स का दान करेगा. हम इस महामारी के दौर में भारत के साथ हर वक्त खड़े हैं. हम लोग वैक्सीन बनाने में भी एक दूसरे की मदद कर रहे हैं. ट्रंप ने कहा, हम साथ मिलकर कोरोना जैसे दुश्मन को मात देंगे.

trump with pm modi

Donald J. Trump
@realDonaldTrump
I am proud to announce that the United States will donate ventilators to our friends in India. We stand with India and @narendramodi during this pandemic. We’re also cooperating on vaccine development. Together we will beat the invisible enemy!


राष्ट्रपति ट्रंप ने शुक्रवार को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ की. उन्होंने कहा, भारत बहुत महान देश है और प्रधानमंत्री मोदी मेरे बहुत अच्छे मित्र हैं. मैं कुछ दिन पहले ही भारत से लौटा हूं और हमलोग एक साथ (पीएम मोदी) रहे. राष्ट्रपति ट्रंप ने अपने बयान में नई दिल्ली, अहमदाबाद और आगरा दौरे का जिक्र किया. इससे पहले व्हाइट हाउस की ओर से कहा गया कि भारत के साथ अमेरिकी संबंधों को लेकर राष्ट्रपति ट्रंप बहुत खुश हैं. भारत अमेरिका का एक बड़ा साझीदार बन गया है. इसी मामले में सूत्रों के मुताबिक बताया जा रहा है कि अमेरिका भारत को 200 वेंटिलेटर्स दे सकता है. ट्रंप ने यह भी कहा है कि भारत और अमेरिका मिलकर वैक्सीन बना रहे हैं जिसे लोगों को मुफ्त में दिया जा सकता है.

इससे पहले भारत ने भी अमेरिका के साथ दोस्ती निभाते हुए हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवा की सप्लाई भेजी थी. ट्रंप ने इसके लिए खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रह किया था. ट्रंप के आग्रह को स्वीकार करते हुए सरकार ने दवा की बड़ी खेप अमेरिका भेजी थी. अमेरिका ने कोरोना मरीजों के इलाज के लिए भारत यह दवा मांगी थी. भारत में इस दवाई का निर्माण बड़े स्तर पर होता है, लिहाजा अमेरिका और राष्ट्रपति ट्रंप की मांग फौरन पूरी कर दी गई. ट्रंप ने इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया था.

भारत ने 5 करोड़ टेबलेट हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन अमेरिका के लिए भेजे थे जिसका इस्तेमाल कोरोना मरीजों के इलाज में किया गया. अब अमेरिका ने इसी दोस्ती की बात करते हुए भारत को वेंटिलेटर्स देने की बात कही है. ट्रंप ने कहा कि वे भारत में अपने दोस्तों के लिए वेंटिलेटर्स देना चाहते हैं. बता दें, भारत में काफी तेजी से कोरोना का प्रकोप बढ़ रहा है. यहां 81 हजार के पार मरीजों का आंकड़ा पहुंच गया है. भारत में कोराना से 2 हजार 649 लोगों की जान जा चुकी है. देश भर में 24 घंटे में करीब चार हजार कोरोना पीड़ितों की और संख्या बढ़ी है. हालांकि अमेरिका में हालात ज्यादा भयावह हैं जहां कुल 85 हजार 886 मौतों के साथ ही संक्रमण के सबसे अधिक 14 लाख 17 हजार 512 मामले दर्ज किए गए हैं.

फिल्ममेकर सुभाष घई ने मंदिरों से सोना दान करने को कहा, ट्विटर पर लोगों ने घेर लिया



बाद में माफ़ी मांगते हुए सुभाष घई ने एक और ट्वीट किया. 

‘ताल’ और ‘परदेस’ जैसी फिल्में देने वाले फिल्म डायरेक्टर सुभाष घई अपने एक ट्वीट के चलते घिर गए हैं. इस ट्वीट में उन्होंने लिखा,


जितने भी अमीर मंदिर हैं और जिनके पास काफी सोना है, उन्हें खुद आगे आकर सरकार को अपना 90 प्रतिशत सोना सरेंडर कर देना चाहिए, जिससे उन गरीबों की मदद हो सके, जो मुश्किल में हैं. मंदिर को भी तो ये सब लोगों ने भगवान के नाम पर दिया है.

shuabhas ghai

Subhash Ghai Tweet

सुभाष घई का वो ट्वीट जिस पर बवाल मचा है. (तस्वीर: ट्विटर स्क्रीनशॉट)
इस ट्वीट में उन्होंने प्रधानमंत्री ऑफिस के ट्विटर हैंडल को भी टैग कर दिया. इसके बाद लगातार लोगों ने उनके इस ट्वीट की आलोचना शुरू कर दी.

एक ट्वीट में कहा गया- मंदिर ही क्यों? मस्जिद और चर्च क्यों नहीं? वक्फ बोर्ड क्यों नहीं?


एक और अकाउंट ने लिखा-

सवाल ये है कि सिर्फ मंदिर ही क्यों मिस्टर घई? अलग-अलग धर्मों के धार्मिक केन्द्रों के बारे में कोई बात क्यों नहीं? बॉलीवुड को उनकी 90 फीसदी संपत्ति दान करने दीजिए, उन्होंने भी तो इसी देश के लोगों से कमाया है. आपको उदाहरण पेश करना चाहिए.


दरअसल, ये विवाद महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण के एक ट्वीट के बाद शुरू हुआ. 13 मई को पृथ्वीराज चव्हाण ने एक ट्वीट कर सरकार से अपील की थी कि वो देश के सभी धार्मिक ट्रस्टों के पास पड़े सोने का तुरंत इस्तेमाल करे.



अब ऐसी ही बात कर सुभाष घई भी घेरे में आ गए हैं. उन्होंने अपना ट्वीट तो डिलीट कर दिया है, लेकिन उसका आर्काइव्ड वर्जन आप यहां क्लिक करके देख सकते हैं.

सुभाष घई ने अपने पुराने ट्वीट के लिए माफ़ी भी मांग ली है. उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा,

मुझे ये जानकार बहुत दुःख हुआ है कि मेरे ट्वीट की वजह से कुछ लोगों ने मुझे गलत समझा. जब मैंने धनी मंदिर कहा था, तब मेरा मतलब सभी धर्मों के भगवानों के मंदिर से था. किसी एक धर्म के मंदिर से नहीं. 


Subhash Ghai

सुभाष घई ने ट्वीट में ये भी लिखा कि ये एक वैश्विक मानवीय आधार पर किया एक ख़याल था बस. अगर किसी को चोट पहुंची हो, तो उन्हें माफ़ कर दिया जाए.

आतंक के खिलाफ जंग में भारत की बड़ी कामयाबी, म्यांमार ने सौंपे 22 आतंकी

कोरोना संकट के बीच आतंकवाद के खिलाफ जारी जंग में भारत को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. म्यांमार ने आज शुक्रवार को 22 आतंकवादियों को भारत को सौंप दिया. इस पूरे अभियान में NSA अजित डोभाल ने अहम भूमिका निभाई.


NSA अजित डोभाल की इस अभियान में अहम भूमिकाआतंकियों को विशेष विमान से पहले इंफाल लाया गया

कोरोना संकट के बीच आतंकवाद के खिलाफ जारी जंग में भारत को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है. म्यांमार ने आज शुक्रवार को 22 आतंकवादियों को भारत को सौंप दिया. पूर्वोत्तर क्षेत्रों में भी भारत आतंकवाद से खासा प्रभावित रहा है.
सरकारी सूत्रों ने इंडिया टुडे को बताया कि पूरे ऑपरेशन का समन्वय बाहरी खुफिया एजेंसी और म्यांमार सरकार द्वारा किया गया था.

सूत्रों ने बताया कि आतंकवादियों को एक विशेष विमान के जरिए भारत लाया गया. आतंकवादियों के समूह को पहले मणिपुर में राजधानी इंफाल में स्थानीय अधिकारियों को सौंपा गया और फिर असम में गुवाहाटी में लाया गया.


क्या चीन की काट बन सकेगा पीएम मोदी का आत्मनिर्भर भारत अभियान?

ऐसा माना जाता है कि म्यांमार में सक्रिय इन आतंकवादियों को भारत को सौंपने से पूर्वोत्तर राज्यों में आतंकवादी गतिविधियों पर अंकुश लगाने में मदद मिलेगी.

 दुनिया के लिए मिसाल बने ये 18 देश, कोरोना को रोकने में हुए कामयाब

कोरोना से बचे हैं ये देश और द्वीप

किरिबाटी, अमेरिकन समोआ, लेसोथो, मार्शल आईलैंड, मिक्रोनीशिया, नाउरू, पलऊ, समोआ, सोलोमन आईलैंड, टोंगा, टुवालू, वानुआतू, टोकेलाउ, निउ, द कुक आइलैंड, सालमन, तुर्केमेनिस्तान और नॉर्थ कोरिया. कुल मिलाकर धरती पर ऐसे करीब डेढ दर्जन द्वीप और देश हैं. जो कोरोना वायरस की इस महामारी में घरों में कैद होने के बजाए बीच पर पार्टियां कर रहे हैं. जब तमाम दुनिया इस वायरस की चपेट में है. तब इन जगहों तक वायरस का ना पहुंचना हैरान करता है. मगर कायदे से देखें तो दुनिया के नक्शे में तुर्कमेनिस्तान को छोड़कर ये वो द्वीप और देश हैं. जहां सैलानियों का पहुंचना या तो आसान नहीं है. या फिर उन्हें वहां जाने की इजाज़त नहीं है.

सूत्रों ने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजित डोभाल ने बाहरी खुफिया एजेंसी और म्यांमार के अधिकारियों के बीच समन्वय में अहम भूमिका निभाई.

डोनाल्ड ट्रंप बोले- इस साल के अंत तक आएगी कोरोना की वैक्सीन

अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि इस साल के अंत तक कोरोना से निपटने के लिए वैक्सीन तैयार हो जाएगी.
 अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप 



ट्रंप को कोरोना संक्रमितों के लिए वैक्सीन इजाद करने की उम्मीदसाल के अंत तक कोरोना के लिए वैक्सीन तैयार हो जाएगी- ट्रंपकहा-मुमकिन है कि पहले ही हम कोरोना वैक्सीन इजाद कर लें
अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोरोना वायरस से संक्रमितों को ठीक करने के लिए वर्ष 2020 के अंत तक वैक्सीन विकसित किए जाने की संभावना जताई है.

ट्रंप ने COVID-19 वैक्सीन विकसित करने की संभावनाओं को लेकर शुक्रवार को उत्साहित मूल्यांकन दिया. उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि इस साल के अंत तक कोरोना से निपटने के लिए वैक्सीन तैयार हो जाएगी.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक डोनाल्ड ट्रंप ने कहा, 'हम उम्मीद कर रहे हैं कि कोरोना वायरस से संक्रमितों को ठीक करने वाली वैक्सीन इस साल के अंत तक तैयार हो जाएगी, मुमकिन है कि पहले भी हम वैक्सीन इजाद कर लें. अगर हम कर पाए तो.'


व्हाइट हाउस के रोज गार्डन में संवाददाताओं से बातचीत करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, "जैसा कि उन्होंने एक वैक्सीन को लेकर एक अपडेट दिया. हमें लगता है कि हमें कुछ बहुत अच्छे परिणाम बहुत जल्द मिलने वाले हैं."

चीन पर साधा निशाना

बहरहाल, अमेरिका के एक शीर्ष सांसद ने चीन की सरकार को कोरोना वायरस की वैश्विक महामारी का कारण बनने वाले उसके “झूठ, छल और बातों को गुप्त रखने की कोशिशों” के लिए जिम्मेदार ठहराए जाने को लेकर 18 सूत्री योजना सामने रखी है. भारत के साथ सैन्य संबंध बढ़ाना भी इस योजना का एक हिस्सा है.

इसके अलावा अन्य प्रमुख सुझावों में चीन से उत्पादन श्रृंखलाओं को हटाने के साथ भारत, वियतनाम और ताइवान के साथ सैन्य संबंध प्रगाढ़ करना शामिल है.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

सीनेटर थोम टिलिस ने गुरुवार को अपनी 18 सूत्री योजना को विस्तार से प्रस्तुत करते हुए कहा कि चीन सरकार ने खराब मंशा से बातों को छिपाया और ऐसी वैश्विक महामारी फैलायी जो हजारों अमेरिकियों के लिए विपत्ति लेकर आई. यह वही शासन है जो अपने ही नागरिकों को श्रम शिविरों में बंद करके रखता है, अमेरिकी की प्रौद्योगिकी, नौकरियां चुराता है और हमारे सहयोगियों की संप्रभुता के लिए खतरा उत्पन्न करता है.



उन्होंने कहा कि यह अमेरिका और समूचे स्वतंत्र विश्व के लिए बड़ी चेतावनी है. मेरी कार्ययोजना चीनी सरकार को कोविड-19 के बारे में झूठ बोलने के लिए जिम्मेदार ठहराएगी, अमेरिका की अर्थव्यवस्था, जन स्वास्थ्य एवं राष्ट्रीय सुरक्षा को संरक्षित रखते हुए चीनी सरकार को प्रतिबंधित करेगी.

WATCH LATEST VIRAL BREAKING NEWS



पढ़े कोरोना से जुड़ी सारी वाइरल खबरे पढ़े कोरोना से जुड़ी सारी वाइरल खबरे Reviewed by alok kumar on Friday, May 15, 2020 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.