header ads

Latest breaking news INDIA VIRAL

Corona latest breaking news पूरा मामला क्या है?


 Coronavirus India Update: कोरोनावायरस केस की कुल संख्या 98 लाख तक पहुंच गई है. पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 29,398 नए मामले दर्ज किए गए हैं वहीं, 1 दिन में 37 हजार से ज्यादा लोग कोरोना वायरस से ठीक हुए हैं। पिछले 24 घंटों में COVID-19 के कारण 414 लोगों की मौत हो गई है। देश में फिलहाल Coronavirus के Active Case 3,63,749  हैं और ठीक होने वालों की संख्या 92,90,834 हो गई है। Kerala, Maharashtra, West Bengal, Delhi, Karnatka, Aandhra Pradesh, समेत कुछ राज्यों में कोरोना वायरस के एक्टिव केस, मृत्यु दर और रिकवरी रेट का प्रतिशत सबसे ज्यादा है. देश में COVID 19 Recovery Rate में 94.84 फीसद की बढ़ोतरी हुई है।



 Positivity Rate 3.36 फीसदी है. Death Rate 1.45 प्रतिशत है। Supreme Court ने कोरोना संक्रमण का पता लगाने के लिए RT-PCR Test  की अधिकतम 800 रुपए तय करने पर दिल्ली सरकार से जवाब मांगा है। भारत में कोविड वैक्‍सीन (Covid-19 vaccine in India) के इमरजेंसी इस्‍तेमाल की मंजूरी जल्‍द दी जा सकती है।  इससे पहले देश में तीन वैक्सीन कंपनियों ने कोरोना के टीके की इमरजेंसी उपयोगी की अनुमति मांग चुकी हैं। जिनमें Pfizer, Serum Institute of India और Bharat Biotech शामिल हैं।फाइजर वैक्सीन को अब अमेरिका (America) में जल्द  अनुमति मिल सकती है।


दलित लड़के से शादी करने पर लड़की के भाइयों ने हत्या कर शव अपने खेत में दफना दिया!

चांदनी और अर्जुन ने मंदिर में शादी की थी, पर चांदनी के परिवारवाले इससे खुश नहीं थे. और इसी वजह से उन्होंने लड़की की हत्या कर दी. (फोटो- पुष्पेंद्र सिंह/ इंडिया टुडे)

उत्तर प्रदेश का मैनपुरी. यहां की रहने वाली लड़की ने दलित लड़के से शादी कर ली, तो उसके भाइयों ने उसकी हत्या कर शव गायब कर दिया. इसके बाद लड़के की शिकायत पर पुलिस ने केस दर्ज किया. और लड़की का शव बरामद किया. साथ ही एक आरोपी भाई को गिरफ्तार भी किया. बाकियों की तलाश कर रही है.


पूरा मामला क्या है?


मामले की जानकारी के लिए हमने ‘इंडिया टुडे; से जुड़े पुष्पेंद्र सिंह से बात की. उन्होंने बताया कि अर्जुन, जिससे चांदनी ने शादी की, वो प्रतापगढ़ के लालगंज थाना क्षेत्र के गांव टोडरपुर में रहता है. और दिल्ली के त्रिलोकपुरी की एक फैक्ट्री में वायरिंग का काम करता है. चांदनी और अर्जुन पिछले आठ सालों से रिलेशन में थे. 12 जून 2020 को दोनों ने प्रतापगढ़ के एक मंदिर में हिंदू रीति रिवाज से शादी कर ली थी. इसके दो महीने बाद अर्जुन चांदनी को अपने साथ लेकर दिल्ली आ गया था. अब इस शादी से चांदनी के परिवारवाले नाखुश थे, क्योंकि लड़का ‘जाटव समाज’ से था और लड़की ‘कश्यप (धीमर) समाज’ से थी.


17 नवंबर को चांदनी के एक भाई ने उसे कुछ काम से गांव मैनपुरी बुला लिया. और इसके बाद से ही अर्जुन और चांदनी की बात होनी बंद हो गई. फिर अर्जुन को शक हुआ, तो वो अपने परिवार के साथ 23 नवंबर को चांदनी के घर गया. वहां चांदनी के घरवालों ने कहा कि वो तो दिल्ली चली गई है.



अर्जुन और चांदनी ने जून, 2020 में मंदिर में शादी की थी. 

फिर अर्जुन दिल्ली गया. पर वहां चांदनी नहीं मिली. अर्जुन ने उसे फोन किया पर वो भी बंद आ रहा था. अर्जुन ने चांदनी के न मिलने पर दिल्ली के मयूर विहार थाने में  उसके भाइयों के खिलाफ केस दर्ज करवाया. केस दर्ज होते ही पुलिस ने छानबीन शुरू कर दी.


दिल्ली पुलिस अर्जुन को लेकर मैनपुरी आई. उसने चांदनी के भाई सुनील को हिरासत में लिया. पुलिस के मुताबिक, उसने बहन को गोली मारकर अपने खेत की जमीन में गाड़ने की बात कबूली.


टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, आरोपी ने बताया कि बहन को जब वापस घर लेकर आए थे तो उस पर पति को छोड़ने का दबाव बनाया गया था. इस बारे में उससे दो दिनों तक बातचीत भी की गई थी. लेकिन चांदनी वापस जाने की जिद पर अड़ी थी. इस दौरान मारपीट भी हुई और उसके सीने में गोली मार दी गई. इसके बाद भाइयों ने अपने पिता की तरफ से सहमति मिलने के बाद चांदनी के शव को अपने ही खेत में दफना दिया था.


मामला जानने के बाद मयूर बिहार थाने के SI मनोज कुमार तोमर, ASI कैलाशचंद्र और राकेश सिंह, हेड कॉन्स्टेबल उपेंद्र और विजय कुमार मैनपुरी के थाने आए. यहां के SI अजीत सिंह, ASI जैकब फर्नांडीज और पुलिस बल के साथ सुनील को उसके खेतों पर ले गए. वहां जाकर पहले फावड़ा और बाद में JCB से खुदाई शुरू करवाई. कई घंटो खुदाई होने के बाद लड़की का शव बरामद किया गया.



चांदनी का भाई और आरोपी सुनील, जिसे पुलिस ने गिरफ्तार किया है.

एसपी अविनाश पांडेय ने कहा कि दिल्ली पुलिस की सूचना के तुरंत बाद ही लोकल पुलिस ने छानबीन शुरू कर दी थी. JCB बुलाकर शव को बाहर निकालने का काम शुरू कर दिया था. पहले आरोपी गुमराह कर रहे थे, इसलिए खुदाई में देरी हुई. पर जब सख्ती से उनसे पूछताछ की गई, तो उन्होंने सच बताया और पांच घंटे के अंदर शव को सही सलामत बरामद कर लिया गया, जिससे कोई सबूत नष्ट न हो. और आरोपियों की भी तलाश की जा रही है. इस मामले में पुलिस ने एक भाई को गिरफ्तार कर लिया है और बाकी के आरोपी भाई सुधीर, और सुशील फरार हैं, जिनकी पुलिस तलाश कर रही है.


रीति-रिवाज से शादी के लिए घरवाले लड़की को ले गए, फिर मौत की खबर आई, 'ऑनर किलिंग' का आरोप


उत्तर प्रदेश का चंदौली ज़िला. यहां का अलीनगर क्षेत्र. 29 नवंबर को यहां एक 21 बरस की लड़की की मौत हो गई. उसके माता-पिता ने पोस्टमॉर्टम कराए बिना ही शव का अंतिम संस्कार कर दिया. लड़की के पति अंकित यादव ने 2 दिसंबर को अलीनगर थाने में मुकदमा दर्ज करवाया. लड़की के माता-पिता पर बेटी की हत्या का आरोप लगाया. अंकित इस केस को ‘ऑनर किलिंग’ का मामला बता रहे हैं. वो लगातार सोशल मीडिया पर न्याय की मांग कर रहे हैं और पुलिस पर लेटलतीफी के आरोप लगा रहे हैं.



क्या है पूरा मामला?


‘ऑडनारी’ की टीम ने अंकित से बात की. 24 साल के अंकित, समाजवादी पार्टी (SP) से जुड़े हुए हैं. उन्होंने बताया,


मैं और प्रीति यादव पिछले पांच बरस से एक-दूसरे को जानते थे. शादी करना चाहते थे, लेकिन दोनों के परिवार को ये रिश्ता पसंद नहीं था. कुछ महीने पहले प्रीति के घरवालों ने उसकी शादी बनारस में तय कर दी. प्रीति ने जब ये बात मुझे बताई तो हम दोनों ने कोर्ट मैरिज करने का फैसला किया. परिवार वालों की मर्ज़ी के खिलाफ 9 नवंबर को कोर्ट में शादी कर ली. प्रीति मेरे घर रहने लगी. मेरे परिवार वालों ने भी इस शादी को एक्सेप्ट कर लिया. हालांकि, प्रीति के माता-पिता अभी भी इस शादी को मानने के लिए तैयार नहीं थे.


और क्या बताया अंकित ने?


कोर्ट मैरिज के बाद प्रीति के पिता महेंद्र यादव मेरे घर आए. मेरी और प्रिति की शादी रीति रिवाज़ के साथ कराने की बात कही. मेरे परिवार वाले भी राजी हो गए. सगाई के लिए 2 दिसंबर और शादी के लिए 15 दिसंबर की तारीख तय हुई. प्रीति के परिवार वाले 23 नवंबर को उसे घर ले गए.


अंकित का आरोप है कि 29 नवंबर को प्रीति के परिवार वालों ने उसकी हत्या कर दी. और जानकारी दिए बिना ही अंतिम संस्कार कर दिया. उन्हें अंतिम संस्कार में भी नहीं बुलाया गया. प्रीति की मौत की जानकारी उन्हें एक लड़के के ज़रिए मिली.


पुलिस में दी शिकायत


अंकित ने अलीनगर थाने में लड़की के माता-पिता, दो चाचा और दो चचेरे भाइयों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज करवाया है. प्रीति को न्याय दिलाने के लिए वो थाने के बाहर धरना भी दे रहे हैं. अंकित ने कथित तौर पर प्रीति की तरफ से लिखे गए एक लेटर के बारे में भी बताया. इस लेटर में प्रीति ने कथित तौर पर लिखा है कि वो अपने घर जा रही है और अगर इस दौरान उसे कुछ होता है, तो इसकी जिम्मेदारी पूरी तरह से उसके परिवार वालों की होगी. प्रीति ने  इस लेटर में अंकित से शादी और प्यार का ज़िक्र भी है. ये भी लिखा है कि अगर उसे कुछ हो जाता है तो अंकित और उनके परिवार वालों को परेशान न किया जाए.

प्रीति का परिवार क्या कहता है?

हमने इस मामले में प्रीति के माता-पिता से भी बात करने की कोशिश की, हालांकि, उन्होंने हमारे फोन कॉल्स का कोई जवाब नहीं दिया. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, प्रीति के परिवार का कहना है कि 29 नवंबर को प्रीति कपड़ों पर प्रेस कर रही थी. इस दौरान उसे करंट लग गया. परिजनों का दावा है कि वो प्रीति को इलाज के लिए बनारस ले जा रहे थे, लेकिन रास्ते में ही उसने दम तोड़ दिया. इसके बाद प्रीति का अंतिम संस्कार कर दिया गया.


पुलिस क्या कहती है?


चंदौली के एडिशनल SP (सुपरिटेंडेंट ऑफ पुलिस) प्रेमचंद का कहना है,


अंकित यादव की तहरीर पर प्रीति यादव के परिजनों के खिलाफ धारा 302 (हत्या) के तहत मामला दर्ज किया गया है. इस मामले के सभी पहलुओं को ध्यान में रखकर जांच की जा रही है. अभी तक ‘ऑनर किलिंग’ के संबंध में सबूत नहीं मिले हैं. कोर्ट मैरिज के बाद लड़की के परिजन रीति-रिवाज़ के साथ शादी कराने के लिए तैयार हो गए थे. और प्रीति को घर ले आए थे. इसी दौरान 29 नवंबर को प्रेस करते हुए प्रीति की करंट लगने से मौत हो गई.


अंकित पुलिस पर आरोपियों को बचाने और जांच में लीपापोती करने का भी आरोप लगा रहे हैं. उनका कहना है कि परिवार वालों ने इमोशनल कार्ड खेलकर प्रीति को घर बुलाया और केवल इसलिए उनकी हत्या कर दी, क्योंकि दोनों ने उनकी मर्ज़ी के खिलाफ जाकर शादी की. अंकित बताते हैं कि प्रीति के पिता जौनपुर में दरोगा के रूप में तैनात हैं, इसलिए पुलिस जानबूझकर ढंग से जांच नहीं कर रही है.


पुलिस पर लग रहे आरोपों पर चंदौली के SP अमित कुमार का कहना है कि पुलिस अपना काम ढंग से कर रही है. इस मामले के सभी पहलुओं को ध्यान में रखते हुए जांच की जा रही है. खुद CO के नेतृत्व में जांच की जा रही है और बहुत जल्द ही नतीजा सामने आ जाएगा.


ये पूछने पर कि शव का पोस्टमॉर्टम क्यों नहीं किया गया, अमित कुमार ने बताया कि क्योंकि प्रारंभिक जांच में मामला करंट लगने से मौत का था, इसलिए पोस्टमॉर्टम नहीं कराया गया.


बहरहाल, इस मामले में किसकी बात सही है किसकी गलत, हम अभी कुछ नहीं कह सकते. लेकिन इतना तो सच है कि 21 बरस की लड़की ने अपनी जान गंवा दी है.

Post a Comment

0 Comments