मेरे सामने वाली टेबल पर गिल, पंत, शर्मा, सैनी.

 तीसरे टेस्ट से पहले टीम इंडिया के पांच खिलाड़ियों को आइसोलेट क्यों कर दिया गया?


ऑस्ट्रेलिया में आइसोलेट किए गए खिलाड़ियों में रोहित शर्मा, रिषभ पंत और पृथ्वी शॉ शामिल हैं.



टीम इंडिया इस समय ऑस्ट्रेलिया दौरे पर है. दो टेस्ट मैच के बाद सीरीज़ 1-1 से बराबरी पर है. तीसरा टेस्ट मैच 7 जनवरी से सिडनी में खेला जाना है. लेकिन इससे पहले टीम इंडिया के खिलाड़ियों की तरफ से बायो बबल तोड़ने और कोविड प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने का बड़ा मामला सामने आया है. ESPN क्रिकइन्फो की ख़बर के मुताबिक- तुरंत कार्यवाही करते हुए टीम के चार खिलाड़ियों को आइसोलेट कर दिया गया है. ये चार खिलाड़ी हैं – रोहित शर्मा, रिषभ पंत, शुभमन गिल, पृथ्वी शॉ और नवदीप सैनी.


दरअसल ये सारा मामला शुरू हुआ एक ट्वीट से. मेलबर्न में रहने वाले नवलदीप सिंह नाम के एक व्यक्ति ने एक जनवरी को कुछ ट्वीट किए –


“मेरे सामने वाली टेबल पर गिल, पंत, शर्मा, सैनी.


भूख नहीं है तो ये (खाने की फोटो डालते हुए) ऑर्डर कर दिया है ताकि इनको देखता रहूं.


उनको पता नहीं है, लेकिन मैंने उनका बिल भी पे कर दिया है. अपने सुपरस्टार्स के लिए इतना तो कर ही सकता हूं.”


आगे नवलदीप ने लिखा कि जब क्रिकेटर्स को पता चला कि उनका बिल नवलदीप ने पे कर दिया है तो रोहित शर्मा ने कहा कि “भाई जी पैसे ले लो यार, अच्छा नहीं लगता”. लेकिन नवलदीप ने पैसे लेने से मना कर दिया. रिषभ पंत ने उन्हें झप्पी दी और हर क्रिकेटर के साथ उन्होंने फोटो खिंचवाई.


ये फोटोज़ सामने आते ही कोहराम मच गया. सवाल उठने लगे कि टीम इंडिया के क्रिकेटर्स बायो बबल तोड़कर इस तरह रेस्टोरेंट में पार्टी कर रहे हैं. जबकि कोविड काल में मैचों के दौरान प्रोटोकॉल्स को लेकर तमाम सख़्ती बरते जाने के दावे किए जा रहे हैं. शाम होते-होते ये ख़बर भी आ गई कि टीम इंडिया के पांचों क्रिकेटर को आइसोलेट कर दिया गया है. ये बात टीम इंडिया के लिए चिंता बढ़ाने वाली है क्योंकि चार दिन बाद ही टेस्ट मैच शुरू होना है.


टीम इंडिया के खिलाड़ियों के आइसोलेट किए जाने के बाद नवलदीप ने ट्वीट किया कि उन्हें लोग अब सोशल मीडिया पर गाली दे रहे हैं क्योंकि उनके ट्वीट्स की वजह से खिलाड़ियों को मुश्किल हुई. नवलदीप ने लिखा कि उन्हें दुख है कि उनके देश के लोग ही उनके ख़िलाफ हो गए हैं. साथ ही कहा कि वे उम्मीद करते हैं कि सब ठीक हो जाए.


बताते चलें कि रोहित शर्मा फिटनेस कारणों से ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ वनडे और टी20 सीरीज़ नहीं खेल पाए थे. इसके बाद ऑस्ट्रेलिया पहुंचे, अपना 14 दिन का क्वारंटीन पूरा किया. इतने में पहले दो टेस्ट मैच निकल गए. अब तीसरे टेस्ट मैच में रोहित के खेलने की संभावना बनी तो उससे पहले ये कांड हो गया.


देश के स्वास्थ्य मंत्री बोले सबको फ्री देंगे वैक्सीन, फिर ट्वीट करके कुछ और बात कह दी

दिल्ली के जीटीबी अस्पताल में ड्राई रन के दौरान तैयारियां देखते केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री. 

देश में सभी को कोरोना की वैक्सीन मुफ्त मिलेगी या नहीं इस पर तस्वीर पूरी तरह से साफ नहीं हो पा रही है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने पहले सबको मुफ्त में वैक्सीन देने की बात कही, लेकिन थोड़ी देर बाद ही उन्होंने ट्वीट कर कहा कि एक करोड़ हेल्थ वर्कर और दो करोड़ फ्रंटलाइन वर्कर्स को मुफ्त वैक्सीन मिलना तय है. प्राथमिकता वाले 27 करोड़ दूसरे लोगों को मुफ्त टीके पर अभी विचार चल रहा है.

Health Minister Harsh Vardhan


उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा,


“पहले चरण के कोविड-19 वैक्सीनेशन में पूरे देश के सबसे अधिक प्राथमिकता वाले लोगों को फ्री वैक्सीन दी जाएगी. जिसमें एक करोड़ हेल्थवर्कर और दो करोड़ फ्रंटलाइन वर्कर शामिल हैं. प्राथमिकता वाले 27 करोड़ लोगों को जुलाई तक वैक्सीन कैसे दी जाएगी इस पर विचार जारी है.”


दिल्ली के GTB अस्पताल में स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने दो जनवरी को वैक्सीन के ड्राई रन का जायजा लिया. उन्होंने वैक्सीन पर अफवाह फैलाने वालों को भी आगाह किया. उन्होंने कहा कि वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है और इसको लेकर डरने की कोई जरूरत नहीं है. उन्होंने मीडिया से बात करते हुए ड्राई रन की तैयारियों के बारे में भी विस्तार से बताया.


दिल्ली में फ्री वैक्सीन मिलेगी


हर्षवर्धन से फ्री वैक्सीन को लेकर सवाल इसलिए पूछा गया था क्योंकि दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन ने कहा था कि दिल्ली में सभी को वैक्सीन फ्री में उपलब्ध कराई जाएगी. उन्होंने कहा कि 51 लाख लोगों की दिल्ली में गिनती है. जिनमें सबसे पहले हेल्थवर्कर्स को वैक्सीन देंगे, फिर फ्रंटलाइन वर्कर्स को, इसके बाद 50 से अधिक उम्र वालों को, फिर सेहत जिनकी अधिक खराब है उनको और फिर बाकी सभी को. उन्होंने कहा कि रोजाना एक लाख लोगों को वैक्सीन लगाने की तैयारी जारी है.


कैसे किया जा रहा है ड्राई रन?


देश भर में कोरोना की वैक्सीन का ड्राई रन शुरू हो चुका है. देश के 116 जिलों के 259 सेंटर्स पर इस ड्राई रन को अंजाम दिया जा रहा है. दो जनवरी को दिल्ली में तीन जगहों पर वैक्सीन का ड्राई रन किया गया. जीटीबी अस्पताल, वेंकटेश्वर हॉस्पिटल और दरियागंज की डिस्पेंरी में मॉक ड्रिल किया गया. इस दौरान देखा गया कि अस्पताल वैक्सीनेशन के लिए कितने तैयार हैं. चंडीगढ़, लखनऊ, भोपाल और कोलकाता में भी वैक्सीन का ड्राई रन किया गया. इसके अलावा देश के कुछ और हिस्सों में भी वैक्सीन की तैयारियों को परखा गया.


# महाराष्ट्र के पुणे, नागपुर, नंदूरबार और जालना में वैक्सीन का ड्राई रन किया गया.

# बिहार में भी कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन हुआ जिसके लिए पटना, जमुई, बेतिया, फुलवारी शरीफ में सेंटर बनाए गए थे.

# केरल के इडुक्की, पालक्कड़, वायनाड समेत कई जिलों में कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन किया गया.

# कर्नाटक के बेंगलुरू, बेलागाव, कलबुर्गी, मैसूर, शिवमोगा में कोविड वैक्सीन का ड्राई रन किया गया.

# तमिलनाडु के 4 जिलों में ड्राई रन के लिए 11 सेंटर बनाए गए. चेन्नई और नीलगिरी में 3-3 सेंटर बनाए गए हैं और ड्राई रन जारी है.


ड्राई रन में क्या किया जा रहा है?


दरअसल ड्राई रन के दौरान तैयारियों को परखा जा रहा है. इस दौरान असली वैक्सीन की जगह किसी और वैक्सीन या फिर खाली शीशियों को ठीक उसी तरह ट्रांसपोर्ट किया जाता है जैसे असली दवाई को. इस दौरान इस ‘वैक्सीन’ को कोल्ड स्टोर में रखा जाता है. ड्राई रन के दौरान इस पूरी प्रक्रिया को कैसे अंजाम दिया गया, इसमें कितना वक्त लगा, वैक्सीन लगाने पर उसे कैसे लिस्ट किया गया, ऑनलाइन दर्ज कैसे किया गया, इस पूरे सिस्टम को परखा जाता है.

मेरे सामने वाली टेबल पर गिल, पंत, शर्मा, सैनी. मेरे सामने वाली टेबल पर गिल, पंत, शर्मा, सैनी. Reviewed by alok kumar on Saturday, January 02, 2021 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.