‘#modi_rojgar_do’ 'मोदी रोजगार दो'

 ‘#modi_rojgar_do’ 'मोदी रोजगार दो' के बाद छात्रों का आगे का क्या प्लान है?

मोदी रोजगार के पोस्ट्स से 22 फ़रवरी को ट्विटर और यूट्यूब ट्रेंड करता रहा है.

आप जब ये पढ़ रहे हैं, इतनी देर में देश में एक शख्स एक ख़ास वजह से खुदकुशी कर चुका होगा. वो शख्स मेरे पड़ोस में, मेरे शहर में हो सकता है, आपके शहर या गांव में हो सकता है. कोई लड़की हो सकती है, कोई लड़का हो सकता है. 20 साल का एक नौजवान हो सकता है या 35-40 साल का कोई आदमी हो सकता है. हर एक घंटे में ऐसे खुदुकशी करने वालों में एक नया नाम जुड़ता जाता है. आंकड़े बढ़ जाते हैं, पहचान बदल जाती है, लेकिन खुदकुशी की वजह इनमें कॉमन होती है. भारत में हर घंटे एक आदमी बेरोज़गारी या पैसों की तंगाई या कर्ज़ में डूबने की वजह से आत्महत्या कर लेता है. ये आंकड़ें हमें NCRB यानी नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो से मिलते हैं. और NCRB के 2019 के आंकड़ों के मुताबिक देश में करीब 1 लाख 30 हज़ार लोगों ने आत्महत्याएं की. इनमें से 11 हज़ार 268 यानी करीब 9 फीसदी आत्महत्याएं रोज़गार ना मिलने की वजह से या ग़रीबी या कर्ज़ में डूबने से हुई.

‘#modi_rojgar_do’


और जब हम खुदकुशी के इन आंकड़ों पर गौर करते हैं, किसानों की खुदकुशी के आंकड़े भी ज़ेहन में आते हैं. 8-10 साल पहले किसानों की खुदकुशी के मामले हमारे डिस्कोर्स का हिस्सा थे. किसानों की आत्महत्याएं कैसे कम हों इस पर चर्चा होती थी, उन सरकारी नीतियों, उन कर्ज़ की व्यवस्थाओं की आलोचना होती थी जिनकी वजह किसानों को आत्महत्याएं करनी पड़ती थी. अब किसानों से भी ज्यादा बड़ा आंकड़ा उन आत्महत्याओं का है जिनकी वजह नौकरी ना मिल पाना या ग़रीबी होती है. ये आंकड़ा 2018 के मुकाबले ज़्यादा है. बेरोज़गारी का आंकड़ा बढ़ता है, बेरोज़गारी की वजह से खुदकुशियों का आंकड़ा बढ़ता है. और बढ़ता है उन युवाओं का गुस्सा जिनके साथ नौकरी के नाम पर क्रूर सरकारी मज़ाक होता है. चुनाव से पहले सरकारें नौकरियां निकालती हैं, फॉर्म भरे जाते हैं, देश के लाखों युवा सरकारी नौकरियों के वादे के पीछे तैयारी में रातों की नींद जलाते हैं… और फिर परीक्षा के इंतजार में कई साल निकल जाते हैं, अगर परीक्षा हो जाए तो नतीजे लटका दिए जाते हैं, नतीजे भी आ जाएं तो जॉइनिंग देने में सरकार कई अड़ेंगे लगा देती है… और जो युवा शक्ति देश के सृजन में शामिल होने चाहिए थी, उन्हें नौकरियों के लिए धरने प्रदर्शन करने पड़ते हैं, सोशल मीडिया पर हैशटैग चलाने पड़ते हैं, अपनी बात कहने के लिए मीम बनाने पड़ते हैं. सरकारें फिर भी नहीं सुनती. और तब सवाल मन में आता है कि हमारी देश की, हमारी सरकार की पहली और सबसे ज़रूरी प्राथमिकता क्या होनी चाहिए? जवाब मिलता है प्रधानमंत्री के पांच साल पुराने बयान में.


जब पीएम ने सवाल को अपवित्र बताया


2014 में सरकार बनने के सालभर बाद भी पीएम मोदी ने देश के युवाओं को नौकरी देने के लिए एक विज़न रखा. जिसकी बुनियाद इस बात पर थी कि हमारे पास युवा भी हैं और नौकरियां भी हैं, दिक्कत बस इतनी सी है कि नौकरी से मिलाप का युवाओं में कौशल नहीं है. इसलिए युवाओं के हुनर को तराशने के लिए प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना शुरू हुई. इसके लिए एक मंत्रालय भी बनाया गया था. और तब देश के पीएम ने युवाओं को सपने दिखाए थे.


इस योजना में 2020 तक 1 करोड़ युवाओं को ट्रेनिंग देने की योजना थी. द हिंदू बिज़नेस लाइन अखबार की एक रपट के मुताबिक 2019 के लोकसभा चुनाव से कुछ महीने पहले तक इस योजना के तहत सिर्फ 34 लाख युवाओं को कौशल मिला और उनमें से सिर्फ 10 लाख को नौकरियां मिली. 2019 के चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री से बेरोज़गारी के बढ़ते आकंड़ों पर सवाल पूछा गया तो उन्होंने सवाल को ही अपवित्र बता दिया.


मोदी की दूसरी पारी में क्या चल रहा है?

मई 2019 से मोदी सरकार का दूसरा कार्यकाल शुरू हुआ. इस बार मोदी सरकार ने डिस्कोर्स बदल दिया. पहले कार्यकाल में युवाओं को अकुशल माना था, स्किल इंडिया पर ज़ोर था, दूसरे कार्यकाल में शिक्षा व्यवस्था में ही खामियां ढूंढ ली. और पढ़ाई के बाद नहीं, बढ़ाई के साथ ही कौशल देने यानी वॉकेशनल कोर्स शुरू करने की बात नई शिक्षा नीति में रखी गई है. और इससे युवाओं का जीवन कैसे बदल जाएगा, प्रधानमंत्री आजकल अलग अलग मौकों पर बताते रहते हैं.


इस व्यवस्था का कितना फायदा होगा, होगा या नहीं ये तो तब मालूम चलेगा जब इस नई व्यवस्था से छात्र गुज़रेंगे. अभी पुरानी व्यवस्था की ही बात कर लेते हैं. जो पढ़ाई करके रोज़गार मांग रहे हैं उनका क्या? प्रधानमंत्री जी कह रहे हैं कि परीक्षा के तरीके में खामी हैं, नई व्यवस्था लाई जाएगी.

#modi_rojgar_do

अब उन लाखों छात्रों की बात करते हैंजिन्हें नौकरी मांगने पर सरकार से किसी नई स्कीम की जानकारी पकड़ा दी जाती है. 21 फरवरी यानी कल सोशल मीडिया पर एक बार फिर से रोजगार के मुद्दे पर युवाओं ने मोदी सरकार के खिलाफ अपनी नाराज़गी जाहिर की.


‘#modi_rojgar_do’ और ‘#बहानानहींबहाली_चाहिए’ ट्विटर से लेकर यूट्यूब तक ट्रेंड करता रहा. दिन भर में करीब 25 लाख ट्वीट इन हैशटैग्स पर किए गए. और वजह क्या है? तत्कालिक वजह बना SSC CGL 2019 के Tier 2 का रिजल्ट. ये Tier 2 परीक्षा क्या है और इसे लेकर छात्रों को क्या परेशानी है इस पर आएंगे, लेकिन पहले SSC CGL के बारे में जान लेते हैं. SSC यानी स्टाफ सेलेक्शन कमीशन. SSC का काम होता है सरकारी विभागों के लिए भर्ती करना. इसके लिए SSC तीन अहम एग्जाम कराती है. पहला MTS यानी कि Multi Tasking Staff Examination.ये एग्जाम अलग-अलग मंत्रालयों और विभागों में ग्रेड-सी (नॉन-क्लर्क) की भर्ती के लिए होता है. दूसरा CHSL यानी Combined Higher Secondary level Exam. इससे केंद्र सरकार लोवर डिविजनल क्लर्क, पोस्टल असिस्टेंट, कोर्ट क्लर्क और डेटा इंट्री ऑपरेटर जैसे पदों के लिए भर्ती करती है.


और तीसरा होता है CGL यानी Combined Graduate Level Examination. इसके ज़रिए केंद्रीय मंत्रालयों और विभागों में बी और सी ग्रेड के अधिकारियों की भर्ती होती है. ये परीक्षा चार चरणों में होती है. टियर- 1 और 2 का एग्जाम ऑब्जेक्टिव होता है. टियर-3 डिस्क्रिप्टिव होता है, इसमें निबंध और लेटर लिखना होता है. टियर-4 कम्प्यूटर बेस्ड स्किल टेस्ट होता है. तो हुआ ये कि CGL 2019 के Tier 2 की परीक्षा 15, 16 और 18 नवंबर 2020 को हुई थी. रिजल्ट आया तीन दिन पहले 19 फरवरी को. जैसे ही अभ्यर्थियों ने रिजल्ट देखा, सोशल मीडिया पर कैम्पेन शुरू हो गया. परीक्षा परिणामों का विरोध कर रहे अभ्यर्थियों का कहना है कि 18 नवंबर का पेपर आसान था और छात्रों ने काफी अच्छा स्कोर किया था. कइयों ने कुल 200 अंक की परीक्षा में पूरे अंक तक हासिल किए थे. लेकिन जब रिजल्ट आया तो ऐसे कई छात्रों का सिलेक्शन नहीं हुआ, जिन्होंने अच्छा स्कोर किया था. छात्रों का आरोप है कि नॉर्मलाइजेशन के नाम पर 15, 16 को एग्जाम देने वालों के 60-70 नंबर बढ़ा दिए गए हैं जबकि 18 नवंबर को एग्जाम देने वालों के इतने ही नंबर घटा दिए गए हैं.


SSC ने CGL 2020 का नोटिफिकेशन निकाला था. भर्ती कुल 6506 पदों के लिए थी.

मुद्दे क्या हैं?


यानी SSC का ये हाल है कि वो एक परीक्षा तीन दिन में कराती है, लेकिन SSC के एक्सपर्ट्स तीनों पेपर्स का स्टैंडर्ड एक जैसा नहीं रख पाती. और फिर SSC को भी कबूलना पड़ता है कि एक पेपर ज़रूरत से ज्यादा आसान हो गया था.  SSC के खिलाफ छात्रों का ये गुस्सा सिर्फ CGL 2019 एग्जाम को लेकर ही नहीं था. कई वजहों में ये एक वजह थी. इसके अलावा छात्रों की डिमांड लिस्ट में सीटें बढ़ाने, फाइन एंड फेयर एग्जाम और वेटिंग लिस्ट जैसे मुद्दे भी शामिल है.

19 फरवरी को SSC ने रिजल्ट जारी किया. तीन दिन बीत चुके हैं. तब से अब तक छात्रों के इतने बड़े कैम्पेन के बावजूद SSC की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है. जब हमने SSC का पक्ष जानने के लिए कॉल किया तो चेयरमैन ऑफिस से जवाब मिला कि हेल्पलाइन नंबर पर बात करिए. और हेल्पलाइन नंबर तो ऐसा कि वो लगता ही नहीं.

ये तो बात हो गई CGL की. SSC ने 2018 में एक भर्ती निकाली थी. कॉन्स्टेबल जनरल ड्यूटी की. बोलचाल की भाषा में इसे SSC GD 2018 कहा गया. ये भर्ती पैरामिलिट्री फोर्सेज यानी CRPF, ITBP, BSF, CISF, NIA और असम राइफल्स में सिपाहियों के 54 हजार पदों पर भर्ती के लिए निकाली गई थी. जिसे बाद में बढ़ाकर 60,210 पदों के लिए कर दिया गया. भर्ती के तीन चरण होते हैं, रिटन एग्जाम, फिजिकल टेस्ट और मेडिकल टेस्ट. अप्लिकेशन प्रोसेस स्टार्ट हुआ था जुलाई 2018 में. तीनों टेस्ट पूरा होते-होते आ गया जनवरी 2021. 21 सितंबर 2020 को लोकसभा में एक सवाल का जवाब देते हुए केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने बताया कि केंद्रीय अर्धसैनिक बलों में 111,093 पद खाली हैं. SSC GD 2018 की भर्ती में करीब 85-90 हजार कैंडिडेट ऐसे थे जो तीनों स्टेज पास कर चुके थे. और इनमें से काफी ऐसे भी लोग थे जिनका ये आखिरी मौका था. यानी कि भर्ती प्रक्रिया पूरी होने में लेट-लतीफी के चलते ये ओवरएज हो गए थे और अगली भर्ती में इन्हें जगह न मिल पाती. ऐसे में SSC GD 2018 के अभ्यर्थियों ने मांग की कि जब आपके पास तीनों परीक्षा पास करके 85-90 हजार कैंडिडेट पड़े हुए हैं और सीटें भी खाली ही हैं तो फिर सबको नियुक्ति क्यों नहीं दी जा सकती? लेकिन SSC ने अभ्यर्थियों की मांग को अनसुना कर दिया और करीब 54 हजार सीटों पर फाइनल मेरिट लिस्ट जारी की. इसके अलावा दिल्ली पुलिस भर्ती और SSC CGL 2020 का फार्म भरने में हुई दिक्कतों की वजह से भी छात्रों ने SSC को निशाने पर लिया.


अब रेलवे की तरफ चलते हैं

रेलवे ने फरवरी 2019 में विज्ञापन निकाला नौकरियां ही नौकरियां. NTPC यानी नॉन टेक्निकल पॉपुलर कैटेगरीज में 35208 पोस्ट की वैकेंसी. इसमें क्लर्क, टिकट क्लर्क, गुड्स गार्ड, स्टेशन मास्टर जैसे पदों पर भर्ती होती है. NTPC के लिए आवेदन करने वालों की संख्या 1 करोड़ 26 लाख के लगभग है. जून और सितंबर 2019 के बीच इसकी परीक्षा आयोजित होनी थी. फिलहाल 2021 का फरवरी भी लगभग जाने ही वाला है और NTPC के पहले स्टेज का एग्जाम अब तक पूरा नहीं हो सका है. आपको याद होगा कि पिछले साल सितंबर में किस तरह से छात्रों ने बेरोजगारी के खिलाफ जमकर प्रदर्शन किया था. उसका नतीजा ये हुआ था कि NTPC के एग्जाम की डेट RRB ने घोषित कर दी थी. 28 दिसंबर 2020 से पहले स्टेज का कम्प्यूटर बेस्ड टेस्ट एग्जाम शुरू हुआ जो कि अभी भी चल ही रहा है. इसके बाद दूसरे स्टेज का कम्प्यूटर बेस्ड टेस्ट होगा. फिर मेडिकल और टाइपिंग टेस्ट. इसके बाद डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन और फिर जाकर कहीं नियुक्ति मिलेगी. NTPC के साथ ही रेलवे ने ग्रुप डी की भी भर्ती निकाली थी. 1 लाख 3 हज़ार 769 पदों की भारी भरकम वैकेंसी. 1 करोड़ 15 लाख के लगभग आवेदन आए थे. सितंबर-अक्टूबर 2019 में एग्जाम का शेड्यूल था. परीक्षा अप्रैल से जून 2021 में प्रस्तावित है. यानी कि अब तक नहीं हुई है. SSC और रेलवे. ये केवल दो केंद्रीय संस्थानों की स्थिति है जिनसे युवाओं को सबसे ज्यादा नौकरी की आस होती है. राज्यों की भर्ती आयोगों का हाल तो और भी खस्ता है. फिर कभी उन पर भी बात करेंगे.


देश की प्राथमिकता युवाओं को रोज़गार देनी की अगर नहीं है तो भी अब होनी चाहिए. प्रधानमंत्री देश की युवा शक्ति पर गर्व करते हैं. अंतर्राष्ट्रीय मंचों से भी कई बात कह चुके हैं कि भारत की ताकत भारत के युवा हैं. और ये ही युवा जब रोज़गार को लेकर अपने समस्या रखते हैं तो सरकार ध्यान नहीं देती. उम्मीद है सरकार युवाओं की मांगों पर ध्यान देगी ताकिआगे से सृजन वाली शक्ति रोज़गार मांगने, सरकारों के खिलाफ प्रदर्शन करने और फॉर्म भरने के बाद नौकरियों के इंतजार में जाया नहीं होगी.


ट्विटर पर लोगों ने पीएम मोदी से सुबह मांगा रोजगार, शाम को बोले #modi_girlfriend_do


सुबह जहां लोग ट्विटर पर पीएम मोदी से रोजगार मांगते नजर आए तो शाम होते-होते गर्लफ्रेंड की मांग करने लगे. इस ट्रेंड के साथ ढेरों मीम्स देखने को मिले.

सोशल मीडिया अजब-गजब जगह है. पता नहीं कब क्या ट्रेंड करने लगे. ऐसा ही एक अजब ट्रेंड सोमवार शाम को ट्विटर पर देखने को मिला. सोमवार सुबह से ‘मोदी रोजगार दो’ का ट्रेंड आसमान छू रहा था, तो शाम को एक नए ट्रेंड ने दस्तक दी. यह ट्रेंड भी पीएम मोदी से कुछ मांग को लेकर था. इस बार रोजगार की नहीं, बल्कि गर्लफ्रेंड की बात की गई थी. सोमवार 22 फरवरी शाम को #modi_girlfriend_do तेजी से ट्रेंड होता दिखा. इसके साथ ही ट्विटर पर बाढ़ आ गई मजेदार मीम्स की.

‘#modi_rojgar_do’ 'मोदी रोजगार दो' ‘#modi_rojgar_do’ 'मोदी रोजगार दो' Reviewed by alok kumar on Monday, February 22, 2021 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.