header ads

सुशील कुमार पहलवान दिल्ली से गिरफ्तार latest SUSHIL KUMAR breaking news हिन्दी

 Sushil kumar पहलवान  दिल्ली से गिरफ्तार

 latest  breaking news

सुशील कुमार. पहली तस्वीर ANI को दिल्ली पुलिस के सूत्रों के हवाले से मिली है. दूसरी तस्वीर फाइल फोटो है.

पहलवान सुशील कुमार गिरफ्तार हो गए हैं. उन पर 23 साल के युवा पहलवान सागर धनखड़ की हत्या का आरोप है. इसी मामले में सुशील बीती 5 मई से फरार चल रहे थे. आख़िरकार दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया. इंडिया टुडे रिपोर्टर अरविंद कुमार ओझा और तनसीम हैदर की रिपोर्ट के मुताबिक सुशील कुमार को दिल्ली से गिरफ्तार किया गया है. साथ ही उनके साथी अजय को भी गिरफ्तार कर लिया गया है. अजय पर भी पचास हजार रुपए का इनाम घोषित किया गया था. सरकारी स्कूल में PTI के पद पर काम करने वाला अजय कांग्रेस के नगर निगम पार्षद सुरेश बक्करवाला का बेटा है.

Sushil kumar


न्यूज़ एजेंसी ANI ने भी सुशील की गिरफ्तारी की पुष्टि कर दी है.


दिल्ली के मुंडका इलाके से सुशील कुमार और अजय को गिरफ्तार किया गया है. दोनों कार छोड़कर स्कूटी पर सवार होकर किसी से मिलने जा रहे थे. आरोपी पहलवान सुशील कुमार को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस ने पंजाब के भटिंडा, मोहाली समेत कई राज्यों में ताबड़तोड़ छापेमारी की है. मिली जानकारी के अनुसार पहलवान सुशील कुमार अलग फोन नंबरों से अपने करीबियों के संपर्क में थे. इंस्पेक्टर शिवकुमार और इंस्पेक्टर कर्मबीर के नेतृत्व वाली स्पेशल सेल ने सुशील कुमार को अरेस्ट किया है इस टीम को ACP अत्तर सिंह सुपरवाइज कर रहे थे.


क्या था पूरा मामला?

4 मई 2021 की रात करीब 11 बजे दिल्ली के मॉडल टाउन के एम ब्लॉक इलाके में कुछ लोग एक फ्लैट पर पहुंचे. इन लोगों के हाथ में डंडे, हॉकी स्टिक थे. आरोप है कि इन लोगों ने यहां रहने वाले युवा रेसलर सागर धनखड़ और उसके साथियों को किडनैप किया. पीड़ितों ने पुलिस को जो बयान दिया, उसके मुताबिक सुशील कुमार नीचे कार में बैठे थे और उनके हाथ में पिस्टल थी. गन पॉइंट पर होंडा सिटी कार में सागर और उसके साथियों को छत्रसाल स्टेडियम ले जाया गया. आरोप है कि यहां सुशील और उसके साथियों ने सागर और उसके साथियों को जमकर पीटा. सभी बुरी तरह घायल हुए और सागर ने दम तोड़ दिया. इसी के बाद से सुशील कुमार फरार हो गए थे.


सुशील से पूछताछ के बाद हत्या की वजह पूरी तरह स्पष्ट हो पाएगी. लेकिन फिलहाल मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एक वजह ये बताई जा रही है कि ये पैसों के लेनदेन का मामूली विवाद था. सागर जिस फ्लैट में रहता था, वो सुशील कुमार की पत्नी का था. बताया जा रहा है कि सागर ने दो महीने का किराया दिए बिना ही ये फ्लैट खाली कर दिया. सुशील ने सागर से किराया मांगा. सागर ने नहीं दिया. आरोप है कि इसी के बाद सुशील ने साथियों के साथ मिलकर सागर को बुरी तरह पीटा, जिससे उसकी मौत हो गई.


कहां-कहां गए सुशील?

इंडिया टुडे रिपोर्टर अरविंद ओझा ने सुशील के फरारी काटने के दिनों की एक टाइमलाइन साझा की है, जो बता रही है कि वे इतने दिन कहां-कहां थे.


# 4- 5 मई की रात छत्रसाल स्टेडियम में सागर की हत्या हुई.

# सुशील कुमार 6 मई को हरिद्वार, ऋषिकेश में एक बड़े बाबा के आश्रम में थे.

# 7 मई को दिल्ली वापस. फिर हरियाणा के बहादुरगढ़. वहां से चंडीगढ़.


 खाद्य सामग्री के नाम पर BJP ने बांटा चिप्स, कुरकुरे, कहा- गरीब बच्चों का मन प्रफुल्लित होगा!


बीजेपी के राजेश भाटिया ने लिखा,

इस बात का महत्व नहीं है कि कौन क्या दे रहा है. महत्व इस बात का है कि देने वाले की भावना और सोच क्या है. व्यक्ति की अच्छी सोच को पकड़िये शब्दों को नहीं.



केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी. किशन रेड्डी (बीच में) ने प्रदेश भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता (बाएं) को खाद्य सामाग्री के नाम पर चिप्स के पैकेट भेंट किए. (फोटो आदेश गुप्ता के ट्विटर हैंडल से)

कोरोना के इस दौर में कई NGO, कई संगठन और स्वंयसेवक जरूरतमंद लोगों की मदद के लिए आए हैं. लोग भूखों को खाना खिला रहे हैं. जरूरतमंदों को राशन दे रहे हैं. इस बीच केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने कॉविड वॉरियर्स के बीच बांटने के लिए राहत सामग्री के रूप में चिप्स दान किए हैं. उन्होंने शनिवार, 22 मई को भारतीय जनता पार्टी दिल्ली को चिप्स दान दिए. दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष आदेश कुमार गुप्ता ने इस डोनेशन को स्वीकार किया.


आदेश गुप्ता ने ट्वीट किया



आज गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी जी द्वारा दिल्ली बीजेपी को खाद्य सामग्री दी गई. यह सामग्री #SevaHiSangathan के अंतर्गत दिल्ली भर में भाजपा द्वारा चलाए जा रहे कैंप में जरूरतमंदों के साथ-साथ दिल्ली की सेवा में कार्यरत निगम कर्मचारियों व पुलिस कर्मियों के बीच वितरित की जाएंगी.


वहीं दिल्ली बीजेपी की एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि खाद्य सामग्री को नगर निगम के कर्मचारियों और वॉरियर्स के बीच बांटा जाएगा. जिन्होंने पूरी महामारी के दौरान कोरोना वॉरियर्स बनकर अपनी जान की परवाह किए बगैर लोगों की सेवा करते रहे. सामग्री के अंतर्गत बिस्किट चिप्स के अलावा अन्य सामग्री है.


विज्ञप्ति में आदेश गुप्ता के हवाले से कहा गया है कि इस महामारी में कोविड मरीज तो परेशान हैं ही साथ ही मरीजों के परिजन भी काफी परेशान हैं. कई मरीज तो दो से चार दिन तक बिना खाए रखते थे. इसका बड़ा कारण है लॉकडाउन. इसी को ध्यान में रखते हुए प्रदेश भाजपा ने भोजन का वितरण शुरू किया है.


वहीं दिल्ली बीजेपी के प्रवक्ता प्रवीण शंकर कपूर ने ट्वीट किया,

माननीय किशन रेड्डी जी एवं आदेश जी हर चीज़ का अपना महत्व होता है, हर व्यक्ति खासकर बच्चे बहुत मानसिक दबाव में हैं, ऐसे में यह कुरकुरे वैफर आदि जब गरीब परिवारों के बच्चों के बीच पहुंचेगे तो उनका मन प्रफुल्लित करेंगे.

एक यूजर ने लिखा,


कुछ ऐसा देना चाहिए था ना जो पौष्टिक हो, इम्यूनिटी बढ़ाने में योगदान दे. ये क्या है? कुरकुरे, टकाटक, डोरिटोज? इसको खाद्य सामग्री नहीं, चखना कहते हैं. खैर, ये सब काम करने हैं तो करें, लेकिन कम से कम मोदीजी को तो टैग मत कीजिए.

एक यूजर ने लिखा कि खाद्य सामग्री में कुछ और नहीं मिला?

वहीं एक और यूजर ने लिखा,


भाई इसका छोटा पैकेट 35 रु का है और बड़ा 60 का. ये खाद्य सामग्री के नाम पर डोरिटोज़ बांट कर मज़ाक मत कीजिए. अमीरों का चखना है ये. गरीब का पेट नहीं भरेगा.

Post a Comment

0 Comments