header ads

बाहर घूम रहे हो, शख्स ने बैग से कोबरा निकाल कर दिखा दिया today breaking news in hindi

 पुलिस ने पूछा लॉकडाउन में क्यों बाहर घूम रहे हो, शख्स ने बैग से कोबरा निकाल कर दिखा दिया

 today breaking news in hindi

बाएं से दाएं. पुलिस के सवालों का जवाब देता और फिर कोबरा दिखाता Lockdown के दौरान बाहर निकला

कोबरा दिखाता Lockdown के दौरान बाहर निकला

कोरोना वायरस की दूसरी लहर पर नियंत्रण पाने के लिए देश के अलग-अलग हिस्सों में लॉकडाउन (Lockdown) लगा हुआ है. सिर्फ उन्हीं लोगों को बाहर आने-जाने की इजाजत है, जो जरूरी सेवाओं में लगे हुए हैं. लेकिन कई सेवाएं ऐसी हैं, जिन्हें भले ही प्रशासन ने जरूरी सेवाओं में ना रखा हो, लेकिन हैं वे असल में काफी जरूरी.


एक ऐसी ही घटना कर्नाटक के मैसूर में सामने आई है. यहां के हार्डिंग सर्कल के पास से एक व्यक्ति गुजर रहा था. बाइक पर सवार था. इलाके में लॉकडाउन लगा हुआ है, तो पुलिस ने बाइक सवार से पूछा कि वो बाहर क्यों घूम रहा है? जवाब में व्यक्ति ने कहा कि वो एक जरूरी काम करके आया है. पुलिस ने पूछा कि कौन सा जरूरी काम? तो व्यक्ति ने बताया कि उसने पास की बस्ती से एक कोबरा को रेस्क्यू किया है.


पुलिसवालों को विश्वास नहीं हुआ, तो उन्होंने शख्स से सबूत मांगा. शख्स ने अपने बैग से एक प्लास्टिक का डिब्बा निकाला. डिब्बे में एक सांप था. इस डिब्बे में एक छोटा सा छेद भी था, ताकि सांप को आसानी से सांस मिलती रहे. सांप को देखते ही पुलिस वाले पीछे हट गए.


इस पूरे घटनाक्रम का वीडियो पत्रकार दीपा बालकृष्णन ने ट्विटर पर डाला. वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि पुलिस के लोग बाइक सवार से एक के बाद एक सवाल पूछ रहे हैं और बाइक सवार उन सवालों का तसल्लीबख्श तरीके से जवाब दे रहा है. सभी सवालों के जवाब देने के बाद बाइक सवार अपनी बाइक पर बैठता है और वहां से निकल जाता है.


गुजरात में बांटे जा रहे 'नमो ऑक्सीजन बूस्टर', लोग बोले- ये तो आपदा में अवसर खोज लिया


नमो ऑक्सीजन बूस्टर पाउच की ऐसी तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हैं.

देशभर में कोरोना वायरस से संक्रमण के मामले बढ़ते जा रहे हैं. हर दिन हज़ारों लोगों की मौत हो रही है. लगातार बढ़ते मरीजों के बीच ऑक्सीजन, दवाई, हॉस्पिटल में बेड्स की भारी किल्लत है. ऐसे में कई लोग अपने स्तर पर जितनी हो रही है, मदद कर रहे हैं. कई स्वयंसेवी संस्थाएं भी लोगों की मदद की लिए आगे आई हैं. इस सबके बीच सोशल मीडिया पर ‘नमो ऑक्सीजन’ की एक तस्वीर वायरल है. सोशल मीडिया पर इसे लेकर तीखे ट्वीट्स चल रहे हैं. आइए बताते हैं, इस पूरे मामले के बारे में.

Namo Oxygen Booster Gujarat


वायरल हो रही तस्वीर में एक पाउच सा नज़र आता है. उस पर नमो ऑक्सीजन बूस्टर (आयुर्वेदिक) नाम लिखा है. बूस्टर पैक पर पीएम नरेंद्र मोदी के अलावा गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी, उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल सहित कई बीजेपी नेताओं की तस्वीरें हैं. इसे भारतीय जनता पार्टी के गुजरात प्रदेश अध्यक्ष सी.आर. पाटिल से प्रेरित बताया गया है. इस ऑक्सीजन बूस्टर पैक के बारे में बताया गया है कि ये कपूर, अजवाइन और लौंग आदि से बनाया गया है. इसके इस्तेमाल को लेकर बताया गया है कि इसे दिन में 15-20 बार नाक से सूंघा जाए. पाउच पर राधे राधे ग्रुप का नाम भी नज़र आता है.


Namo Oxygen Booster Gujarat

राधे-राधे ग्रुप का कहना है कि ये ऑक्सीजन पाउच उनकी ओर से ही बांटे जा रहे हैं. आजतक की गोपी मनियार की रिपोर्ट के मुताबिक़, राधे राधे ग्रुप को सूरत के परबतपाटीया इलाके के पार्षद दिनेश राजपुरोहित चलाते हैं. दिनेश का कहना है कि हम भारतीय जनता पार्टी के सेवक हैं. उन्हीं की प्रेरणा से हम कोरोना महामारी में काम करते हैं, इसलिए उसके नेताओं की तस्वीर पाउच पर लगाई है.


सोशल मीडिया पर हो रही खिंचाई

इसे लेकर सोशल मीडिया पर लोग बीजेपी नेताओं की खिंचाई कर रहे हैं. लोगों का कहना है कि भारत के लिए इस मुश्किल वक्त में दुनियाभर से ऑक्सीजन सहित मेडिकल सामग्री आ रही है. उन देशों ने अपने प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति की तस्वीर नहीं लगाई, लेकिन ये उस तथाकथित ‘ऑक्सीजन बूस्टर’ पर भी पीएम मोदी की तस्वीर लगा रहे हैं, जिस पर भरोसा तक नहीं है.


हालांकि नमो ऑक्सीजन बूस्टर से संबंधित किसी भी तरह की कोई पोस्ट हमें बीजेपी के आधिकारिक वेरीफाइड सोशल मीडिया पेजों पर नहीं दिखी.


बता दें कि कपूर-लौंग को पोटली सूंघने से कोरोना मरीजों में ऑक्सीजन बढ़ने के दावे वॉट्सऐप पर खूब तैरते रहते हैं. लेकिन डॉक्टर और आयुर्वेदिक चिकित्सक तक इससे इनकार करते रहे हैं. इस बारे में लल्लनटॉप की ये फैक्ट चेक स्टोरी पढ़ लीजिए.


कुछ समय पहले बीजेपी के दिग्गज नेता और केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने भी फेसबुक पर एक पोस्ट शेयर कर दी थी. उन्होंने इसे सेहत की पोटली बताया था. इस पोस्ट में ऑक्सीजन लेवल बनाए रखने के लिए कपूर, लौंग और अजवाइन की पोटली बनाने और दिनभर सूंघते रहने की बात लिखी थी. हालांकि बाद में नकवी ने पोस्ट डिलीट कर दी थी.


नोट: ‘नमो ऑक्सीजन बूस्टर’ से फायदे का अभी तक कोई वैज्ञानिक आधार नहीं पाया गया है. ऐसे में हमारी सलाह ये है कि कोरोना से संक्रमित होने या कोरोना से किसी भी संबंधित मामले को लेकर तुरंत डॉक्टर की सलाह लें और खुद का ख्याल रखें. वॉट्सऐप पर फॉरवर्ड होने वाले मेसेज पर अमल न करें.


विडियो- कोविड-19 में आइवरमेक्टिन, सीटी स्कैन और दवाइयों पर जानकारों ने क्या कहा?

Post a Comment

0 Comments